Sanskrit – Class 7 – Chapter 15 – लालनगीतम्- Hindi English Translation

CBSE Ruchira भाग 2 – Class 7 Sanskrit Chapter 15 लालनगीतम्- translation in Hindi (Hindi Anuvad), English Translation, are provided here. That Means, word meanings (शब्दार्थ:), अन्वयः, सरलार्थ are given for the perfect explanation of 15 लालनगीतम्

Class 7 Sanskrit chapter 15 लालनगीतम् पाठ में हम लोग कुछ ऐसे श्लोक या गीत पढ़ेंगे जो किसी बच्चे या फिर किसी पौधे के लालन-पालन में सुनाया जाता है जैसे किसी बच्चे को अगर सुलाना हो तो उसे हम यह सभी श्लोक गाकर सुना सकते हैं
तो चलिए इस पाठ में exactly क्या हुआ है ? हम उसी को पढ़ लेते हैं

पञ्चदशः पाठः
लालनगीतम्

उदिते सूर्ये धरणी विहसति ।
पक्षी कूजति कमलं विकसति ।।1।।

अन्वयः उदिते सूर्ये धरणी विहसति, पक्षी कूजति कमलं विकसति।

सरलार्थः सूरज के उदय होने पर धरती हसती है, पक्षी चहचहाती है, कमल खिलता है।

English Translation: The earth laughs, the birds chirp, and the lotus blooms when the sun rises.

नदति मन्दिरे उच्चैर्ढक्का ।
सरितः सलिले सेलति नौका ।।2।।

अन्वयः मन्दिरे ढक्का उच्चै: नदति। सरितः सलिले नौका सेलति।

सरलार्थः मन्दिर में ऊँची आवाज में (जोर से) नगाड़ा बजता है। नदी के पानी में नाव तैरती है।

English Translation: The drum is being played loudly in the temple. The boat floats in the water of the river.

पुष्पे पुष्पे नानारङ्गाः ।
तेषु डयन्ते चित्रपतङ्गाः ।।3।।

अन्वयः पुष्पे पुष्पे नानारङ्गाः। तेषु चित्रपतङ्गाः डयन्ते।

सरलार्थः प्रत्येक (सभी) फूलों में भिन्न-भिन्न रंग हैं तथा उन पर तितलियाँ मंडराती हैं।

English Translation: Each flower has a different color and butterflies hover over them.

वृक्षे वृक्षे नूतनपत्रम् ।
विविधैर्वर्णैर्विभाति चित्रम् ।।4।।

अन्वयः वृक्षे वृक्षे नूतनपत्रम्। विविधै: वर्णै: चित्रम् विभाति।

सरलार्थः प्रत्येक पेड़ पर नए पत्ते हैं। विविध रंगों से दृश्य सुशोभित होता है।

English Translation: Each tree has new leaves. The scene is adorned with various colors.

धेनुः प्रातर्यच्छति दुग्धम् ।
शुद्धं स्वच्छं मधुरं स्निग्धम् ।।5।।

अन्वयः प्रात: धेनुः शुद्धं स्वच्छं मधुरं स्निग्धम् दुग्धम् यच्छति।

सरलार्थः सुबह में गाय शुद्ध, स्वच्छ, मीठा और प्रिय दूध देती है।

English Translation: The cow provides pure, clean, sweet, and sweet milk in the morning.

गहने विपिने व्याघ्रो गर्जति ।
उच्चैस्तत्र च सिंहः नर्दति ।।6।।

अन्वयः गहने विपिने व्याघ्र: गर्जति। तत्र सिंहः उच्चै: नर्दति।

सरलार्थः घने जंगल में बाघ गरजता है। वहाँ शेर ज़ोर से दहाड़ता है।

English Translation: Tiger roars in the dense forest. The lion roars loudly there.

हरिणोऽयं खादति नवघासम् ।
सर्वत्र च पश्यति सविलासम् ।।7।।

अन्वयः अयं हरिण: नवघासम् खादति। सर्वत्र च सविलासम् पश्यति।

सरलार्थः यह हिरण नई घास खाती है। और सभी जगह विलास पूर्वक देखती है।

English Translation: This deer eats fresh grass. And looks everywhere with joy.

उष्ट्रः तुङ्गः मन्दं गच्छति ।
पृष्ठे प्रचुरं भारं निवहति ।।8।।

अन्वयः तुङ्गः उष्ट्रः मन्दं गच्छति। पृष्ठे प्रचुरं भारं निवहति।

सरलार्थः ऊँचा ऊंट धीरे-धीरे जाता है। पीठ पर ढेर सारा वजन ढोता है।

English Translation: The camel is tall and moves slowly. Carrying a lot of weight on the back.

घोटकराजः क्षिप्रं धावति ।
धावनसमये किमपि न खादति ।।9।।

अन्वयः घोटकराजः क्षिप्रं धावति। धावनसमये किमपि न खादति।

सरलार्थः घोड़ा तेज़ दौड़ता है। दौड़ते समय कुछ भी नहीं खाता है।

English Translation: The horse runs fast. Doesn’t eat anything while running.

पश्यत भल्लुकमिमं करालम् ।
नृत्यति थथथै कुरु करतालम् ।।10।।

अन्वयः इमं करालम् भल्लुकं पश्य। थथथै नृत्यति, करतालम् कुरु।

सरलार्थः यह भयानक भालू को देखो यह थ-थ-थै नाचता है, तालियाँ बजाओ।

English Translation: Look at this dreadful bear. He dances. Do some clapping.

Hindi Summary

प्रथम श्लोक में बताया गया है-
प्रातः सूर्य निकलता है तो पूरे पृथ्वी पर प्रकाश फैल जाता है | इस प्रकार पृथ्वी हंसती है पक्षी चहचहाते हैं और कमल भी खिल जाता है |

द्वितीय श्लोक में बताया गया है-
सुबह होते ही मंदिर में नगाड़ा बजता है ,घंटियां बजती हैं और नदी में नाव तैरती है |

तीसरे श्लोक में बताया गया है-
सुबह होते ही भिन्न-भिन्न रंग के फूल खिल जाते हैं और उन पर तितलियां मंडराती हैं |

चौथे श्लोक में बताया गया है-
सुबह होने पर प्रत्येक पेड़ पर नए नए पत्ते सूर्य के प्रकाश में सुशोभित हो रहे हैं |

पांचवें श्लोक में बताया गया है-
सुबह-सुबह गाय शुद्ध, स्वच्छ, मीठा और प्यारा दूध देती है |

छठे श्लोक में बताया गया है-
सुबह होने पर जंगल में बाघ गरजता है और शेर यानी सिंह दहाड़ता है |

सातवें श्लोक में बताया गया है –
सुबह होने पर हिरण नए-नए घास खाता है तथा चारों और खुशी से देखता है |

आठवें श्लोक में बताया गया है-
सुबह होने पर ऊंचा ऊंट धीरे धीरे चलता है और पीठ पर बहुत सारा भार होता है |

नौवें श्लोक में बताया गया है –
सुबह होने पर घोड़ा तेजी से दौड़ता है और दौड़ते समय कुछ भी नहीं खाता है |

दसवें श्लोक में कहा गया है-
इस डरावने भालू को देखो | यह भालू नाचता है| इसलिए आप लोग तालियां बजाओ |

English Summary

The first stanza has been told-
When the sun rises in the morning, light spreads throughout the earth. Thus the earth laughs the birds flutter and the lotus also blossoms.

In the second stanza,
In the morning, the drum rings in the temple, the bells are ringing and the boat floats in the river.

In the third verse,
Flowers of different colors bloom in the morning and the butterflies hover over them.

In the fourth verse,
In the morning, new leaves on each tree are being adorned with sunlight.

In the fifth verse,
In the morning, the cow gives pure, clean, sweet, and lovely milk.

In the sixth verse,
In the morning, the tiger roars in the forest, and the lion also roars.

In the seventh verse, it is said –
In the morning, the deer takes fresh grass and sees it all around happily.

The eighth stanza has been told-
In the morning, a tall camel runs slowly and there is a lot of load on the back.

In the ninth verse, it is said –
In the morning, the horse runs fast and does not eat anything while running.

The tenth stanza has been said-
Look at this scary bear. This bear dances. So you guys applaud.

👍👍👍

About the Author: MakeToss

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: