India's Largest Free Online Education Platform

Sanskrit class 8 chapter 13-हिमालय

Sanskrit class 8 chapter 13-हिमालय – इस पाठ में हम लोग हिमालय की प्राकृतिक सुंदरता व विशेषता के बारे में पढ़ने वाले हैं | यह पाठ कुमार संभव के प्रथम सर्ग से लिया गया है | कुमारसंभव की रचना महाकवि कालिदास के द्वारा की गई थी | तो चलिए इस Sanskrit class 8 chapter 13 पाठ में क्या हुआ है exactly उसी को पढ़ लेते हैं |

In this lesson, we are going to read about the beauty and beauty of the Himalayas. This text has been taken from Kumar Sarang of the first possible. Kumarasambhava was composed by Mahakavi Kalidas. So let’s read exactly what happened in this lesson.

Sanskrit class 8 chapter 13-हिमालय

Sanskrit class 8 chapter 13-हिमालय

Sanskrit class 8 chapter 13Sanskrit class 8 chapter 13-हिमालयclass 8 Sanskrit chapter 13Sanskrit class 8 chapter 13

Exercise:

Sanskrit class 8 chapter 13-हिमालय
                                                  Download PDF

Hindi Summary Sanskrit class 8 chapter 13-हिमालय:

तो चलिए इस पाठ के सार को भी देख लेते हैं-

प्रथम श्लोक में कहा गया है– भारत देश के उत्तर दिशा में एक पर्वत है,हिमालय,  जो पर्वतों का राजा है | यह पर्वत पूर्व और पश्चिम दोनों को फैला हुआ है | यह पर्वत पूर्व और पश्चिम के दोनों समुद्रों मे घुसा हुआ है | यह दोनों समुद्रों में घुसकर पृथ्वी की गहराई को माप रहा है |

दूसरे श्लोक में कहा गया है कि हिमालय पर हमेशा बर्फ रहती है ,फिर भी हिमालय की खूबसूरती को कोई नष्ट नहीं पहुंचाती है | इस पर एक उदाहरण दिया गया है कि बहुत सारे गुण होने पर एक अवगुण छुप जाता है , जैसे कि चंद्रमा की रोशनी में उसका खुद का धब्बा |

तीसरे श्लोक में कहा गया है कि हिमालय पर्वत पर अधिकतम समय बादल छाए रहते हैं और उन बादलों की छाया का आनंद ऋषियों या सिद्ध लोगों के द्वारा लिया जाता है | और जब बारिश होती है,  तो यह सिद्ध लोग पर्वत की चोटियों पर जाकर छिप जाते हैं |

चौथे श्लोक में कहा गया है कि हिमालय पर्वत बहुत ही सुगंधित रहता है क्योंकि वहां पर देवदारु के वृक्ष हैं | जहां पर हथिया अपने कान खुजलाने आती है ,और उनके रगड़ने की वजह से देवदारु के वृक्ष से दूध निकलता है | जो की अति सुगंधित होता है |

पांचवें और अंतिम श्लोक में कहा गया है कि वह हिमालय जो दिन में डरने वाले उल्लू को छुपने के लिए गुफाएं जैसा आश्रय देता है | जहां प्रकाश नहीं पहुंच पाता , वह हिमालय महान है | जो तुच्छ जीवो की मदद करता है|

English Summary Sanskrit class 8 chapter 13-हिमालय:

So let’s look at the essence of this lesson-

The first stanza says that India is a mountain north of the country, the Himalayas, which is the king of mountains. This mountain extends to both east and west. This mountain is seated in both the East and West seas. It is entering the oceans and measuring the depth of the earth.

In the second verse it has been said that there is always snow on the Himalayas, yet does not destroy the beauty of the Himalayas. An example has been given that there is a lot of hiding when there are many properties, such as its own blur in the light of the moon.

In the third verse it has been said that the maximum time is clouded on the Himalayas and the shadow of those clouds is enjoyed by the sages or sages. And when it rains, then the perfect people go to the top of the mountain and hide it.

In the fourth verse it has been said that the Himalayas are very aromatic because there are pine trees. Where the handguns come to itching their ears, and due to their rubbing, the milk comes out from the fir tree. Which is very fragrant.

In the fifth and final stanza it has been said that the Himalayas, who give shelter like caves to hide the fearful owls in the day. Where the light does not reach, the Himalaya is great. That helps the small animals.

3 Comments

  1. The chp has changed on this chp place another chp chito rajte bharatswarnbhoomi has been replaced can you also give this new chp translation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!