Sanskrit – Class 8 – Chapter 7 -भारतजनताऽहम् – Hindi & English Translation

सप्तमः पाठः
भारतजनताऽहम्

[प्रस्तुत कविता आधुनिक कविकुलशिरोमणि डॉ. रमाकान्त शुक्ल द्वारा रचित काव्य भारतजनताऽहम्’ से साभार उद्धृत है। इस कविता में कवि भारतीय जनता के सरोकारों, विविध कौशलों, विविध रुचियों आदि का उल्लेख करते हुए बताते हैं कि भारतीय जनता की क्या-क्या विशेषताएँ हैं।]

The poem presented is excerpted from the poem “Bharatjanataham” composed by modern poet Kulshiromani Dr. Ramakant Shukla. In this poem, the poet mentions the concerns of the Indian people, various skills, different interests, etc., and tells what are the characteristics of the Indian people.

अभिमानधना विनयोपेता, शालीना भारतजनताऽहम्।
कुलिशादपि कठिना कुसुमादपि, सुकुमारा भारतजनताऽहम्।1।

अन्वयः – भारतजनताऽहम् अभिमानधना विनयोपेता, शालीना। कुलिशादपि कठिना कुसुमादपि सुकुमारा अस्मि।

सरलार्थः – मैं भारत की जनता हूँ। मैं स्वाभिमान रूपी धन, विनम्रता से पूर्ण (तथा) शालीन हूँ। मैं वज्र से भी कठोर (तथा) फूल से भी अत्यधिक कोमल हूँ।

English Translation: I am the people of India. I am full of self-respect, full of humility and gracious. I am harder than a thunderbolt and softer than a flower.

निवसामि समस्ते संसारे, मन्ये च कुटुम्बं वसुन्धराम्।
प्रेयः श्रेयः च चिनोम्युभयं, सुविवेका भारतजनताऽहम्।2।

अन्वयः – भारतजनताऽहम् समस्ते संसारे निवसामि, वसुन्धराम् च कुटुम्बं मन्ये। प्रेयः श्रेयः च उभयं चिनोमि, सुविवेका (अस्मि)।

सरलार्थः – मैं भारत की जनता हूँ। (मैं) समस्त संसार में निवास करती हूँ, और पृथ्वी को परिवार मानती हूँ। मनोहर और सुख-प्रद दोनों (पथों) का चयन करती हूँ। अच्छे विचार वाला हूँ।

English Translation: I am the people of India. I reside in the whole world, and consider the earth as my family. I choose both the pleasant and the pleasurable path. I am a good thinker.

विज्ञानधनाऽहं ज्ञानधना, साहित्यकला-सङ्गीतपरा।
अध्यात्मसुधातटिनी-स्नानैः, परिपूता भारतजनताऽहम्।3।

अन्वयः – भारतजनताऽहम् विज्ञानधनाऽहं ज्ञानधना, साहित्यकला-सङ्गीतपरा। अध्यात्मसुधातटिनी-स्नानैः, परिपूता अस्मि।

सरलार्थः – मैं भारत की जनता हूँ। मैं विज्ञान रूपी धन, ज्ञान रूपी धन, साहित्य, कला तथा संगीत में निष्ठावान हूँ। मैं अध्यात्म-रूपी अमृत जैसी नदी में स्नान के द्वारा अधिक पवित्र हूँ।

English Translation: I am the people of India. I am devoted to the wealth of science, the wealth of knowledge, literature, art and music. I am more pure by bathing in the nectar-like river of spirituality.

मम गीतैर्मुग्धं समं जगत्, मम नृत्यैर्मुग्धं समं जगत्।
मम काव्यैर्मुग्धं समं जगत्, रसभरिता भारतजनताऽहम्।4।

अन्वयः – मम गीतै समं जगत् मुग्धं, मम नृत्यै समं जगत् मुग्धं। मम काव्यै: समं जगत् मुग्धं, रसभरिता भारतजनताऽहम्।

सरलार्थः – मेरे गीतों से सम्पूर्ण जगत् मोहित है, मेरे नृत्य से सम्पूर्ण जगत् मुग्ध है तथा मेरे काव्य के द्वारा (भी) सम्पूर्ण जगत् मुग्ध है। मैं रस से भरी हुई भारत की जनता हूँ।

English Translation: My songs, dance, and poetry have captivated the entire world. I am an energized Indian.

उत्सवप्रियाऽहं श्रमप्रिया, पदयात्रा-देशाटन-प्रिया।
लोकक्रीडासक्ता वर्धेऽतिथिदेवा, भारतजनताऽहम्।5।

अन्वयः – भारतजनताऽहम् वर्धे। अहम् उत्सवप्रिया श्रमप्रिया, पदयात्रा-देशाटन-प्रिया, लोकक्रीडासक्ता अतिथिदेवा।

सरलार्थः – मैं भारत की जनता विकास की ओर बढ़ता हूँ। मैं उत्सवप्रिय, परिश्रमप्रिय तथा पैदल यात्रा के द्वारा देशों का भ्रमण करने वाली हूँ। मैं प्रचलित खेलों में दिलचस्पी रखने वाली, अतिथि प्रिय हूँ।

English Translation: India’s people are progressing toward development. I am cheerful, hardworking, and prefer to travel through countries on foot. I am interested in popular sports and enjoy endearing guests.

मैत्री मे सहजा प्रकृतिरस्ति, नो दुर्बलतायाः पर्यायः।
मित्रस्य चक्षुषा संसारं, पश्यन्ती भारतजनताऽहम्।6।

अन्वयः – मैत्री मे सहजा प्रकृतिः अस्ति, नः दुर्बलतायाः पर्यायः। संसारं मित्रस्य चक्षुषा पश्यन्ती भारतजनताऽहम्।

सरलार्थः – मित्रता हमारी प्रकृति है (परन्तु यह) निर्बलता का पर्याय नहीं है। पूरे संसार को मित्र की दृष्टि से अवलोकन करती हुई मैं भारत की जनता हूँ।

English Translation: Friendship is in our nature and is not a sign of weakness. I am the people of India, and I see the entire world as a friend.

विश्वस्मिन् जगति गताहमस्मि, विश्वस्मिन् जगति सदा दृश्ये।
विश्वस्मिन् जगति करोमि कर्म, कर्मण्या भारतजनताऽहम्।7।

अन्वयः – अहं विश्वस्मिन् जगति गता अस्मि, (अहं) विश्वस्मिन् जगति सदा दृश्ये, विस्मिन् जगति कर्म करोमि, (अहं) कर्मण्या भारतजनताऽहम्।

सरलार्थः – मैं पूरे संसार में गई हूँ। मैं सम्पूर्ण जगत् हमेशा दिखाई देती हूँ। मैं सम्पूर्ण संसार में कार्य करती हूँ। मैं परिश्रमी भारत की जनता हूँ।

English Translation: I’ve travelled the entire globe. I am always visible to the entire world. I work all over the world. I am a hardworking Indian.

👍👍👍

About the Author: MakeToss

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: